This topic contains 0 replies, has 0 voices, and was last updated by  EduGorilla 2 years ago.

  • Author
    Posts
  • #960164 Reply
     EduGorilla 
    Keymaster
    Select Question Language :


    खुले में मलत्याग अनर्थकारी हो सकता है, जब यह अति सघन आबादी वाले क्षेत्रों में व्यवहार में लाया जा रहा हो, जहां मानव मल को फसलों, कुओं, खाद्य सामग्रियों और बच्चों के हाथों से दूर रखना असंभव होता है। भौम जल (ग्राउन्डवाटर) भी खुले में किए गए मलत्याग से संदूषित हो जाता है। आहार में गए अनेक रोगाणु और कृमियां बीमारियां फैलाते हैं। वे शरीर को कैलोरियों और पोषक तत्वों का अवशोषण करने लायक नहीं रहने देते। भारत में लगभग आधो बच्चे कुपोषित बने रहते हैं। उनमें से लाखों, उन रोग दशाओं से मर जाते हैं जिनसे बचाव सम्भव था।अतिसार (डायरिया) के कारण भारतीयों के शरीर औसत रूप से उन लोगों से छोटे हैं जो अपेक्षाकृत गरीब देशों के हैं, जहां लोग खाने से अपेक्षाकृत कम कैलोरियाँ लेते हैं। न्युन–भार (अंडरवेट) माताएँ ऐसे अविकसित (स्टंटेड) बच्चे पैदा करती है जो आसानी से बीमारी का शिकार हो सकते हैं और अपनी पूरी संज्ञानात्मक संभावनाओं (कोग्निटिव पोटेंशियल) को विकसित करने में असफल रह सकते हैं। जो रोगाणु पर्यावरण में निर्मुक्त हो जाते हैं वे न केवल अमीर और गरीब, बल्कि शौचालयों का प्रयोग करने वालों को भी, एक समान हानि पहुँचाते हैं।

    उपर्युक्त परिच्छेद से निम्नलिखित में से कौन सा,सबसे निर्णायक 
    अनुमान (इनफेरेंस) निकाला जा सकता है?

    Options :-

    1. भारत की केंद्रीय और राज्य सरकारों के पास इतने पर्याप्त संसाधन नहीं है कि प्रत्येक घर के लिए एक शौचालय सुलभ करा सकें।

    2. खुले में मलत्याग भारत की सर्वाधिक महत्वपूर्ण लोक स्वास्थय समस्या है।

    3. खुले में मलत्याग, भारत के कार्यबल (वर्क–फोर्स) की मानव | पूंजी (ह्यूमन कैपिटल) में हास लाता है।

    4. खुले में मलत्याग सभी विकासशील देशों की लोक स्वास्थय समस्या है।

    Post your Training /Course Enquiry
    Are You looking institutes / coaching center for
    • IIT-JEE, NEET, CAT
    • Bank PO, SSC, Railways
    • Study Abroad
    Select your Training / Study category
Reply To: खुले में मलत्याग अनर्थकारी हो सकता है,….
Your information:




Verify Yourself




Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account